लेख


थर्मल और हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर जनरेशन कम्पनियां बड़ी संख्या में दिवालियापन का सामना कर रही हैं. मुख्य कारण यह है कि बढ़ते सेंसेक्स के बावजूद बिजली की मांग लगातार नहीं बढ़ रही है. जब हम सेंसेक्स और जीडीपी विकास-दर पर विचार करते हैं तो यह स्थिति स्पष्ट हो जाती है.

जलविद्युत परियोजनाए घाटे में हैं क्योंकि इनके द्वारा उत्पादित बिजली का दाम 7 से 8 रुपये प्रति यूनिट है जो कि सौर ऊर्जा से काफी अधिक है

सेंसेक्स ने हाल ही में 37,000 का आंकड़ा पार कर लिया है, जो यूपीए सरकार के दौरान 30,000 से अधिक है. साथ ही जीडीपी विकास दर वर्तमान में लगभग 7 प्रतिशत पर स्थिर है, जो यूपीए सरकार के दौरान प्राप्त 8-9 प्रतिशत से कम है. एनडीए सरकार के दौरान सेंसेक्स बढ़ रहा है जबकि विकासदर कम है. यह विपरीत चाल इंगित करता है कि सेंसेक्स को चलाने वाली बड़ी कंपनियां अच्छी तरह से काम कर रही हैं, जबकि सकल घरेलू उत्पाद को चलाने वाली बड़ी अर्थव्यवस्था स्थिर है. नोटबंदी, जीएसटी की जटिल अनुपालन प्रणाली और आयकर अधिकारियों द्वारा जांच के डर भय ने बड़े शहरों में बिस्कुट और रोटी बनाने जैसे छोटे व्यवसायों का धंधा ठप्प कर दिया है. बंद छोटे व्यवसायों का बाजार सेंसेक्स कंपनियों द्वारा कब्जा कर लिया गया है. कम समग्र आय में वृद्धि हुई है; लेकिन सेंसेक्स कंपनियां अच्छी तरह से कार्य कर रही हैं.

सेंसेक्स कंपनियों द्वारा किए गए मुनाफे पर डिविडेंड उन निवेशकों को दिए जाते हैं जो आम तौर पर "समृद्ध" होते हैं. इन लोगों के पास पहले से ही अपने घरों में वाशिंग मशीन और एयर कंडीशनर होते हैं इसलिए,उनके द्वारा प्राप्त अतिरिक्त आय से बिजली की मांग में ज्यादा वृद्धि नहीं होती है. दूसरी ओर, छोटे व्यवसायों के मालिकों और श्रमिकों को वाशिंग मशीन और एयर कंडीशनर खरीदने की इच्छा रहती है परन्तु उनकी आय में गिरावट होने की वजह से उन्होंने इन उपकरणों को खरीदना कम कर दिया है और बिजली की मांग में ठहराव हुआ है. इस प्रकार बिजली की कुल मांग नहीं बढ़ रही है.

बिजली की कम मांग के लिए दूसरा कारण है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था मैन्युफैक्चरिंग से सेवाओं कि तरफ जा रही है. सेवा क्षेत्र में कॉल सेंटर, मूवी स्टूडियो, पर्यटक होटल आदि जैसे शामिल हैं. मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र में सेवा की तुलना में बिजली की खपत दस गुना अधिक होती है. सेवा क्षेत्र में वृद्धि से बिजली की खपत में वृद्धि कम हुई है.

उपरोक्त दोनों कारणों का संयुक्त प्रभाव है कि बिजली की खपत कम ही हो रही है. अप्रैल-मई 2017 में बिजली की खपत में 5.9 प्रतिशत की वृद्धि हुई. अप्रैल-मई 2018 में यह वृद्धि घटकर 3.1 प्रतिशत रह गयी. बिजली की खपत में कम वृद्धि ने बिजली के मूल्य को स्थिर कर दिया है. इंडिया एनर्जी एक्सचेंज के आंकड़ों के मुताबिक 2017-18 में बिजली की औसत कीमत 3.26 रुपये प्रति यूनिट थी. थर्मल परियोजनाएं प्रति इकाई 5 से 6 रुपये की कीमत पर सफल हैं. इस प्रकार, वे अब लाभदायक नहीं हैं और दिवालिया हो रहे हैं.

थर्मल पावर कम्पनियाँ दिवालिया होने के कगार पर हैं क्योंकि इनके द्वारा उत्पादित बिजली का दाम 5 रुपये प्रति यूनिट है जो कि सौर ऊर्जा की अपेक्षा बहुत अधिक है

सौर ऊर्जा के विकास ने थर्मल कंपनियों की समस्या को बढ़ा दिया है. मध्यप्रदेश में हालिया नीलामी में सौर ऊर्जा की कीमत 1.58 रुपये प्रति यूनिट थी. थर्मल पावर की लागत लगभग 5 रुपये प्रति यूनिट है और जल विद्युत 8 रुपये प्रति यूनिट है. इस प्रकार, खरीदार सौर ऊर्जा से बिजली खरीदना पसंद करते हैं, न कि थर्मल और जलविद्युत परियोजनाओं से.

थर्मल एवं हाइड्रो पावर जनरेशन कंपनियों की परेशानियां इसलिए हैं कि: (1) नोटबंदी और जीएसटी द्वारा छोटे व्यवसायों का धंधा ठप्प होना; (2) मैन्युफैक्चरिंग से सेवाओं की तरफ झुकाव; (3) सौर ऊर्जा की कम लागत. इनमें से पहला और तीसरा एनडीए सरकार की गलत नीतियों के कारण हैं. दूसरा बुनियादी मुद्दे है जो कोई भी सरकार हल नहीं कर सकती है. इस प्रकार थर्मल और हाइड्रो कंपनियां दिवालिया हो रही हैं.

मध्यप्रदेश में सौर ऊर्जा का दाम 1.58 रुपये है जो कि अन्य विद्युत श्रोतों से अधिक किफायती है

हम यहां कैसे पहुंचे? केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण(सीइए) द्वारा गलत कदम उठाये गए थे. इस वैधानिक निकाय ने कई वर्षों से बिजली की मांग के अत्यधिक बढ़े हुए पूर्वानुमानित आंकड़े प्रकाशित किए हैं. उदाहरण के लिए 2003-04 के लिए, सीईए ने वर्ष 2000 में 467 ट्रिलियन यूनिट की मांग की भविष्यवाणी की थी. 2003-04 में वास्तविक मांग केवल 362 ट्रिलियन यूनिट ही थीं. सीईए ने ऐसे झूठे बढ़े हुए पूर्वानुमानों के जरिए बड़ी संख्या में थर्मल और जल विद्युत परियोजनाओं की स्थापना को प्रोत्साहित किया है. प्रोफेसर वी रंगनाथन, डॉ. भरत झुनझुनवाला और विनोद व्यासुलु ने 2010 में सीईए को एक प्रस्ताव दिया था, जो भविष्यवाणी करने में इस्तेमाल की गई पद्धति में त्रुटियों को इंगित करता था. (इस प्रस्ताव को यहाँ देखें) सीईए ने इस पर ध्यान नहीं दिया क्योंकि सीईए के अधिकारियों को इससे घूस खाने का अवसर मिलता है अतः  नई परियोजनाएं, विशेष रूप से जलविद्युत परियोजनाएं स्वीकृति के लिए ये प्रस्तुत होते हैं. अपने घूस के लिए उन्होंने बड़े छोटे पूर्वानुमान किए होते हैं, और बड़ी संख्या में थर्मल और जलविद्युत परियोजनाओं की स्थापना को प्रोत्साहित किया जाता है जो अब दिवालिया हो रहे हैं.

एनडीए सरकार द्वारा इन परियोजनाओं को बचाना नहीं चाहिए. हमें इन परियोजनाओं को दिवालिया होने देना चाहिए और सेवा क्षेत्र के विकास पर ध्यान देना चाहिए जिसके लिए कम ऊर्जा की आवश्यकता होती है, और सौर ऊर्जा का उत्पादन बढ़ाना चाहिए जो हमारे प्राकृतिक संसाधनों के लिए बहुत सस्ता और उपयुक्त है. हमारे पास ज्यादा कोयला नहीं है, हाइड्रो पावर हमारे पर्यावरण और संस्कृति दोनों को मार रहा है लेकिन हमारे पास सूर्य की पर्याप्त रौशनी है जिससे हम सौर ऊर्जा निरंतर बना सकते हैं.


Comments powered by CComment

ट्विट्टर पर जुडें

फेसबुक पर जुडें

गूगल प्लस से जुडें