लेख


 

अब तक,भारत सरकार द्वारा एसटीपी स्थापित करने के लिए नगरपालिकाओं को जिम्मेदारी दी थी. नगर पालिका एसटीपी बनाने के लिए खुश थी लेकिन उन्हें चलाने के लिए नहीं. अब भारत सरकार ने नमामी गांगे कार्यक्रम के तहत "हाइब्रिड एन्युइटी मॉडल" (एचएएम यहां संलग्न) पर वाराणसी और हरिद्वार में दो सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट्स (एसटीपी) के लिए समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं. निजी पार्टी इस मॉडल के तहत अपने स्वयं के निवेश के साथ एसटीपी का निर्माण करेंगे. सरकार निवेश का एक हिस्सा अगले कई वर्षों में देगी.  जैसे वार्षिक भुगतान (एन्युइटी) के माध्यम से पहले पांच वर्षों में परियोजना लागत का 40% दिया जायेगा. शेष भुगतान परियोजना के प्रदर्शन के आधार पर किया जाएगा. अगर एसटीपी काम नहीं करता है तो निजी कंपनी को शेष भुगतान नहीं मिलेगा. हम नमामी गंगे के तहत सरकार की इन परियोजनाओं का समर्थन करते हैं.

दौलतगंज उत्तरप्रदेश में कार्यरत सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (फोटो साभार: फ्लिकर)

लेकिन पहले समझाना होगा की मौजूदा एसटीपी के साथ समस्या क्या है? केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की एक रिपोर्ट( पृष्ठ 29, अध्याय 5) के अनुसार, इन प्लांटों से संबंधित प्रमुख समस्याएं इस प्रकार हैं:

  • एक्शन प्लान में शामिल ज्यादातर शहरों / कस्बों में, उचित सीवेज सिस्टम मौजूद नहीं है और खुली नालियों में सीवेज बहती है जो बरसात के मौसम में प्राकृतिक और गंध की समस्याएं पैदा करती है.
  • कई शहरों में, सीवेज सीवेज ट्रांसपोर्ट सिस्टम के गैर-अस्तित्व या गैर-कामकाज के कारण एसटीपी तक नहीं पहुंच रहा है.

सीपीडब्ल्यूबी की रिपोर्ट में कहा गया है कि नगर पालिकाओं  को एसटीपी चलाने के लिए धन नहीं दिया जा रहा है. सीपीडब्ल्यूबी रिपोर्ट बताती है कि (रिपोर्ट पृष्ठ 29, अध्याय 5):

  • एसटीपी को सीवेज पहुँचाने की व्यवस्था करनी होगी.
  • एसटीपी के संचालन और रखरखाव विभाग को अलग-अलग फंड आवंटन किया जाना चाहिए.

हाइब्रिड एन्युइटी मॉडल इन मुद्दों का समाधान नहीं होता है. सीवेज पंपिंग का कोई प्रावधान नहीं है. एसटीपी चलाने के लिए धन उपलब्ध कराने का कोई प्रावधान नहीं है. यह लगभग निश्चित है कि नगरपालिका अभी भी एसटीपी चलाने के लिए धन उपलब्ध नहीं कराएगी और एचएएम एसटीपी काम नहीं करेंगे. पूरी परियोजना केवल निजी कंपनी, नगर पालिका और भारत सरकार के बीच मुकदमेबाजी में सिमट जाएगी. गंगा को साफ करने का एकमात्र तरीका एसटीपी द्वारा ट्रीट किये गए स्वच्छ पानी को खरीदने का है. तब ही अकेले निजी कंपनियों को संयंत्र चलाने के लिए प्रोत्साहन मिलेगा. भारत सरकार को नमामी गांगे कार्यक्रम के तहत हाइब्रिड एन्युइटी मॉडल  के एसटीपी जैसी व्यर्थ परियोजनाएं नहीं बनाना चाहिए.


 


ट्विट्टर पर जुडें

फेसबुक पर जुडें

गूगल प्लस से जुडें